UMEED LYRICS उम्मीद – Tanzeel Khan

Umeed Lyrics उम्मीद : The  Hindi Latest Song Hip Hop Rap Music Album lyrics in hindi and english, Featuring Tanzeel khan, Singer is Tanzeel khan. Umeed Song Lyrics is written by Tanzeel khan. Music by Akarsh Shetty

Umeed Lyrics

Umeed

Umeed Lyrics उम्मीद : The  Hindi Latest Song Hip Hop Rap Music Album lyrics in hindi and english, Featuring Tanzeel khan, Singer is Tanzeel khan. Umeed Song Lyrics is written by Tanzeel khan. Music by Akarsh Shetty

Umeed Lyrics - Tanzeel khan

Umeed Lyrics (English)

 

 

NEWS HEADLINES

[…NUMBERS THAT HAVE CAMEOUT 991 CASES HAVE GROWN A WHILE..]

 

Bahut Dino Baad

Aaj Khula Asmaan Hai

Khali Ye Zameen Aur Bada Tapmaan Hai

Dharti ye Shaant hai

ant ka paigaam hai

Bimari Ko bhi Mazhab

De raha Insaan Hai

Awaaz kon uthae

Beimaan toh awaam hai

Ab tere hi Haatho

mein Desh ki yeh Jaan hai

Jo wafadaar hai

unpe hi ilzaam hai

Vardi – Safed, Khaki

ko mera Salaam hai

 

Ab ye na puchna

Kis Galti ki Saza mili

ha paiso se bhi keemti

bani inki zindagi

Khushnaseeb samjho

khudko kya halat gareeb ki

Insaniyat ko chodho

murdo ke liye Jaagah nahi

 

Kaisa ye manzar hai

Kyu lagra mujhko dar hai

Is marz kya hal hai 

Sirf rab ko hi khabar hai

 

Kal bhi suraj niklega

Roshan hoga ye jahan

Umeed hi karsakte ab yaahaan

Bas yaahaan hai

 

Itna kyu hai hum tanha

Beetaga bhi ye lamha

Kar sakte hai sirf ab hum dua! Hum dua!

 

NEWS HEADLINE

[….DECIDED TO PLAY THIS COMUNAL CARD AND MAKE IT

ALL ABOUT MUSLIM OF INDIA, THIS IS VERY UNFORTUNATE

AT A TIME WHEN WE WERE SUPPOSE TO BE MORE UNITED…]

 

Ah..

Maut nahi dekhti

Kyaa tera mazhab

Sabar rakhle thoda aur sekkhle tu sabak

Ghar me hi baith agar asli tu marad

Khuda se dua kar ha

Gunhegaar bankar

 

Tumhara bhi hai parivaar

Thoda zimmedaar bano

BHUL KE BHED BHAV KHUD SE SAWAL KARO

 

 

Yehi waqt hai sab ek saath ladho

Ek saath ladho,bhale Ek saath Maro

 

Yehi Waqt Sab ek saath ladho

Ek saath ladho,bhale Ek saath Maro

 

Ah! kitna mushkil hai ye

 

Kaisa yeh manzar hai

Kyu lag raha mujko darr hai

Is marz kya hal hai

Sirf rab ko hi khabar hai

 

Kal bhi suraj niklega

Roshan hoga ye jahan

Umeed hi karsakte ab yaahaan

Bas yaahaan hai

 

 

Itna kyu hai hum tanha

Beete ga bhi ye lamha

Kar sakte hai sirf hum duaa…

 

agar mushkil lag raha hai yeh abhi

socha hai kashmir ne kaate kaise din kabhi

azzadi kya?….

unke pass na tha internet bhi

aur kitna mushkil raha hoga

aurtoon ke liye sabhi

jo gaav mein bachpan se lockdown mein rahi

 

socha hai?

 

nhi?

 

toh socho un jawaano ke baare mein

jo rahe parivaar se duur kabhi

garm to kabhi sard mein

 

unke baaremein jo raha

gareebi mein submerged hai

 

par sochke kya karoge? na samjh

paoge kabhi dard hai

 

par isbaar

 

ghar par hi baith agar

tu asli MARD hai!

उम्मीद Umeed Lyrics (Hindi)

 

 

न्यूज़ हेडलाइंस

[…नंबर्स डॉट हैव केम आउट 991 केसेस हैव ग्रोन अ while..]

 

बहुत दीनो बाद

आज खुल्ला आसमान है

खाली ये ज़मीन और बड़ा तापमान है

धरती ये शाँत है

अंत का पैगाम है

बिमारी को भी मज़हब

दे रा इंसान है

आवाज़ कोन उठाए

बेइमान तोह आवाम है

अब तेरे ही हाथो

मैं देश की यह जान है

जो वफादार है

अनपे ही इलजाम है

वरदी – सफद, खाकी

को मेरा सलाम है

 

अब ये ना पूछना

किस गलति की साजा मिली

हा पैसो से भी किमती

बानी इंकी जिंदगी

खुशनसीब समजो

खुदको क्या हालत गरीब की

इन्सानियत को छोड़ो

मर्दो के लिए जागा नहीं

 

कैसा ये मंज़र है

क्यु लगरा मुजको डार है

इस मारज़ क्या हल है

सिरफ रब को ही खाबर है

 

कल भी सुरज निकलेगा

रोशन होगा ये जहान

उम्मेद ही करसकते अब यहान

बस यहां है

 

इतना कू हे हम तनहा

बीतेगा भी ये लमहा

कर सकते है सिरफ अब हम दुआ! हम दुआ!

 

न्यूज़ हेडलाइंस

[….डीइडेड टू प्ले डिस कम्युनल कार्ड एंड मेक इट 

आल अबाउट मुस्लिम ऑफ़ इंडिया, दिस इस वैरी उन्फोर्तुनात 

अत अ टाइम व्हेन वी वेर सपोस टू बी मोर यूनाइटेड…]

 

आह ..

मौत नहीं देखती

क्या तेरा मज़हब

सबर राखले थोडा और सिख तू सबक

घर मैं ही बइठ अगर असली तू मारद

खुदा से दुआ कर हा

गुन्हेगार बंकर

 

तुम्हार भी है परिवार

थोडा ज़िमेदर बानो

भुल के भीड़ भाव खुद से सवाल करो

 

 

येहि वकत है सब एक साथ लाडो

एक साथ लाडो, भेले एक साथ मरो

 

येहि वकत है सब एक साथ लाडो

एक साथ लाडो, भेले एक साथ मरो

 

आह! कितना मशकिल है ये

 

कैसा ये मंज़र है

कयूँ लग रहा मुजको डर हैं

इस मर्ज़ क्या हल है

सिरफ रब को ही खाबर है

 

कल भी सुरज निकलेगा

रोशन होगा ये जहान

उम्मेद ही करसकते अब यहान

बस यहान है

 

इतना क्यों है हम तनहा

बीतेगा भी ये लम्हा

कर सक्ते है सिरफ हम दुआ…

 

अगर मुसकिल लग रह है ये अब

सोचा है कश्मीर ने काटे कैसे दिन कभी

आज़ादी क्या?….

उनके पास न था इंटरनेट भी

और कितना मुश्किल राहा होगा

औरतो के लिए सभी

जो गाव मे बछपन से लॉकडाउन मे राही

 

सोचा है?

 

नहीं?

 

तोह सोचा उन्ह जवानो के बारे मे

जो रहे परिवार से दूर कभी

गर्म तो कभी सर्द में

 

unke baaremein jo raha

गैरीबी में submerged हैं

 

पर सोच के क्या करोगे? ना समज

पाओगे कभी दर्द है

 

पर इसबार

 

घर पर ही बइठ अगर

तू असली मर्द है!

Umeed Song Info - Tanzeel khan

Singer :

Album :

Umeed (उम्मीद)

Lyricist :

Music :

Akarsh Shetty

Music Label :

Video Song of Umeed - Tanzeel khan